SHARE  

 
jquery lightbox div contentby VisualLightBox.com v6.1
 
     
             
   

 

 

 

761. अहमदशाह अब्दाली ने भारत पर कितने आक्रमण किये ?

  • 8 आक्रमण (आठवें आक्रमण की असफलता के पश्चात् भी अहमदशाह अब्दाली ने पँजाब में अपने भाग्य की परीक्षा के लिए दो बार प्रयास किये। किन्तु उसे नौंवे आक्रमण 1769 ईस्वी के आरम्भ में पँजाब के गुजरात जिले के निकट आने का अवसर भी न मिल पाया। ठीक इस प्रकार सन् 1771 ईस्वी में उसका आक्रमण केवल पत्र व्यवहार से आगे नहीं बढ़ सका।)

762. "12 बजे" वाला असली किस्सा क्या है ?

  • जब अहमदशाह अब्दाली ने भारत पाँचवा हमला किया और भारत की बहु बेटियों को भोग विलास की वस्तु समझकर उठाकर अफगानिस्तान ले जा रहे थे, तो किसी भी माई के लाल में हिम्मत नहीं थी, कि उन्हें रोक सकें, किन्तु ऐसी हिम्मत केवल और केवल सिक्खों ने दिखाई, क्योंकि सिक्ख पहले भी नादिरशाह के चँगुल से 2200 हिन्दु स्त्रियों को छुड़वा चुके थे। तीनों दिशाओं से खालसा दल ने अब्दाली को आ दबोचा। इस समय दोपहर के ठीक 12 बजे थे और सिक्खों के 12 जत्थेदारों ने अपने अपने दलों के साथ इस युद्ध में भाग लिया था। इस युद्ध में सिक्खों के 12 जत्थों ने भाग लिया था और ठीक दिन के बारह बजे आक्रमण किया गया था, उस दिन से सिक्खों को वीरता दिखाने की प्रेरणा देने के लिए बारह बजे का सँकेत याद दिलवाकर जनसाधारण उन्हें प्रोत्साहित करने लगे थे।

763. "बड़ा घल्लूघारा" (महाविनाश) क्या है ?

  • अहमदशाह अब्दाली के छठे आक्रमण पर यह घटना हुई। इसमें सिक्खों का इतना नुक्सान हुआ, जो कि कभी भी नहीं हुआ था, सिक्खों के कई निर्दोष परिवार भी इस घटना में मारे गये, इसलिए इसे सिक्ख इतिहास में बड़े घल्लूघारे (महाविनाश) के नाम से याद किया जाता है।

764. "बड़ा घल्लूघारा" (महाविनाश) कब हुआ ?

  • 5 फरवरी, 1762 ईस्वी

765. "बड़ा घल्लूघारे" (महाविनाश) मे लगभग कितने सिक्ख शहीद हुये ?

  • लगभग बीस से पच्चीस हजार सिक्ख सैनिक, स्त्रियाँ और बच्चे, बूढ़े मारे गये।

766. बड़ा घल्लूघारा (महाविनाश) के समय प्राचीन पँथ प्रकाश के लेखक रतन सिंह भँगू के पिता और चाचा उस समय इस युद्ध के मुख्य सुरक्षा दस्ते में कार्यरत थे। उनके प्रत्यक्ष साक्षी होने के आधार पर उन्होंने सरदार जस्सा सिंह आहलूवालिया जी के बारे में क्या लिखा है ?

  • सरदार जस्सा सिंह आहलूवालिया ने अद्वितीय दृढ़ता और साहस का प्रदर्शन किया था और उनको बाईस (22) घाव हुए थे।

767. सरदार कपूर सिंह जी का जन्म कब हुआ था ?

  • सन् 1697 ईस्वी

767 (अ). सरदार कपूर सिंह जी का जन्म किस स्थान पर हुआ था ?

  • ग्राम कालो के, परगना शेखूपुरा

768. सरदार कपूर सिंह जी के पिता जी का क्या नाम था ?

  • चौधरी दलीप सिंह

769. पँजाब के सबसे पहले सिक्ख नवाब कौन थे ?

  • सरदार कपूर सिंघ जी

769 (अ). "सरदार कपूर सिंघ जी" ने खालसा पँथ का विषम/विकट परिस्थितियों में कितने वर्ष तक मार्गदर्शन किया ?

  • लगभग 20 वर्षों तक

770. नवाब कपुर सिंघ जी के समय में उत्साहित युवकों द्वारा अपनेअपने क्षेत्रों में स्वयँमेव दलों का निर्माण किया हुआ था। जिनकी सँख्या लगभग कितनी थी ?

  • 85

771. नवाब कपूर सिंह जी ने सभी से विचारविमर्श करके श्री अमृतसर साहिब जी में खालसे का सम्मलेन बुलाया। इस सम्मेलन में यह निर्णय लिया गया कि सभी जत्थों का विलय एक समूह में किया जायेगा। इस विशाल समूह का क्या नाम रखा गया ?

  • दल खालसा

772. नवाब कपूर सिंह जी ने दल खालसा को किन दो भागों में बाँट दिया ?

  • "बुडढा दल"

  • "तरूण दल"

773. नवाब कपूर सिंह जी द्वारा बनाये गये "बुडढा दल" को क्या कार्य सौंपा गया ?

  • 40 वर्ष की आयु से अधिक के व्यक्तियों के लिए एक अलग से दल की स्थापना कर दी। इन लोगों को गुरूधामों की सेवा और सिक्खी प्रचार का कार्यक्षेत्र दिया गया और इस दल को नाम दिया गया "बुडढा दल"। यह प्रौढ़ावस्था वाले सिक्ख श्री गुरू गोबिन्द सिंघ साहिब जी का जमाना देख चुके थे। अतः वे गुरू मर्यादा इत्यादि से भली भान्ति परिचित थे।

774. नवाब कपूर सिंह जी द्वारा बनाये गये "तरूण दल" को क्या कार्य सौंपा गया ?

  • युवकों को तरूण दल का नाम दिया गया और इनका कार्यक्षेत्र बढ़ाकर उसका बहुत विस्तार कर दिया गया। पहले वे केवल अपने अस्तित्व को बनाये रखने का ही सँग्राम करते रहते थे परन्तु अब उन पर जिम्मेदारियाँ बहुत बढ़ गई थीं। पहली बात उनको निष्काम और निस्वार्थ भाव से परहित के लिए दुष्टों से जूझना था। दूसरा दीन-दुखियों की सेवाभाव से सहायता हेतु सत्ताधारियों पर अँकुश रखना था, जिससे सिक्खी और उसके सदाचार का गौरव बढ़े।

775. सरदार जस्सा सिंघ आहलुवालिया जी को किसने प्रशिक्षित किया था, जिससे वो सिक्ख कौम के महत्वपूर्ण अंग बन गये ?

  • नवाब कपूर सिंघ जी

776. किसने सरबत खालसा सम्मेलन में सभी जत्थों को 12 भागों में बाँट दिया, जिन्हें सिक्ख मिसल भी कहते हैं ?

  • नवाब कपूर सिंघ जी

777. नवाब कपूर सिंघ जी का निधन कब हुआ ?

  • 7 अक्टुबर, 1763

778. नवाब कपूर सिंघ जी का निधन कहाँ पर हुआ ?

  • श्री अमृतसर साहिब जी

779. नवाब कपूर सिंघ जी का निधन कैसे हुआ ?

  • एक सैनिक अभियान में गोली लगने से

780. नवाब कपूर सिंघ जी ने अपना उत्तराधिकारी किसे घोषित किया ?

  • सरदार जस्सा सिंघ आहलुवालिया

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 
     
     
            SHARE  
          
 
     
 

 

     

 

This Web Site Material Use Only Gurbaani Parchaar & Parsaar & This Web Site is Advertistment Free Web Site, So Please Don,t Contact me For Add.